BREAKING NEWS

मीडियाभारती वेब सॉल्युशन अपने उपभोक्ताओं को कई तरह की इंटरनेट और मोबाइल मूल्य आधारित सेवाएं मुहैया कराता है। इनमें वेबसाइट डिजायनिंग, डेवलपिंग, वीपीएस, साझा होस्टिंग, डोमेन बुकिंग, बिजनेस मेल, दैनिक वेबसाइट अपडेशन, डेटा हैंडलिंग, वेब मार्केटिंग, वेब प्रमोशन तथा दूसरे मीडिया प्रकाशकों के लिए नियमित प्रकाशन सामग्री मुहैया कराना प्रमुख है- संपर्क करें - 0129-4036474

हठ योग गुरु बीकेएस अयंगार के ‘अयंगार योग’ पद्धति को दुनियाभर में मिली प्रसिद्धि

योग की कई पद्धति होती हैं। देश में ऐसे तमाम योग गुरु हुए ,जिन्होंने तन और मन को स्वस्थ रखने के लिए अलग-अलग तरह के योग  पद्धतियों से लोगों  का परिचय करवाया। भारत के योग गुरुओं में बेल्लूर कृष्णमचारी सुंदरराजा अयंगार का ऊंचा स्थान रहा है। वे देश-दुनिया में बीकेएस अयंगार के नाम से मशहूर हैं। उन्होंने ही ‘अयंगार योग’ की स्थापना की और योग की इस पद्धति को दुनिया में प्रसिद्ध किया।
 
 
 योग के जरिए बनाई प्रसिद्धि
 
साल 2002 में भारत सरकार ने उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में कार्य के लिए पद्म भूषण तथा 2014 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया था। 'टाइम' पत्रिका ने 2004 में दुनिया के सबसे प्रभावशाली 100 लोगों की सूची में उनका नाम शामिल किया था। अयंगार ने जिन प्रसिद्ध लोगों को योग सिखाया, उनमें जिद्दू कृष्णमूर्ति, जयप्रकाश नारायण, येहुदी मेनुहिन जैसे नाम सम्मिलित हैं।
 
 
दुनिया में 100 से अधिक शाखाएं 
 
आधुनिक ऋषि के रूप में विख्यात अयंगार ने विभिन्न देशों में अपने संस्थान की 100 से अधिक शाखाएं स्थापित की। यूरोपीय देशों में योग फैलाने में वे काफी आगे रहे।
 
अयंगार कर्नाटक के बेल्लूर में वर्ष 1918 में पैदा हुए थे। 1937 में वे महाराष्ट्र के पुणे शहर चले गये। वहीं योग का प्रसार करने के बाद 1975 में योग विद्या नाम से अपना संस्थान शुरू किया, जिसकी आगे चलकर देश-विदेश में कई शाखाएं खोली गईं। उन्होंने योग पर तीन पुस्तकें लिखी हैं- 'लाइट ऑन योग', 'लाइट ऑन प्राणायाम' और 'लाइट ऑन योग सूत्र ऑफ पतंजलि'। 'लाइट ऑफ योगा' का अब तक 18 भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।
 
 
योग की शिक्षा प्राप्त कर दूसरे तक प्रसार करने की इच्छा
 
बीकेएस. अयंगार ने अयंगर योग की सृष्टि की थी। उन्होंने योग की पहली शिक्षा अपने गुरु श्री तिरूमलाई कृष्णमाचार्य से प्राप्त की थी, जो संयोगवश उनके संबंधी भी थे। योग की शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्हें योग इतना प्रिय हो गया कि इस ज्ञान को स्वयं तक सीमित न रखकर सभी में बांटना चाहते थे। इस इच्छा को पूरा करने के लिए उन्होंने भारत सहित लंदन, पेरिस, स्विट्जरलैंड आदि देशों की यात्रा की और योग का प्रचार किया।
 
 
स्वयं में विशेष है ‘अयंगर योग’
 
कई अनुसंधानों के बाद उन्होंने ‘अयंगर योग’ के तरीकों का आविष्कार किया था। स्मरण रहे कि योग अभ्यास आठ पहलुओं (अष्टांग योग) पर आधारित होते हैं। लोकप्रियता के कारण इस योग का नाम अयंगर योग पड़ गया।
 
अयंगर योग में 200 आसन हैं, 14 प्राणायाम हैं, जो क्रमानुसार सरल से जटिलतर होते जाते हैं। अयंगर योग के आसन और प्राणायाम का अभ्यास करने के लिए उसके मुद्रा/अवस्था पर ध्यान देना सबसे जरूरी होता है। योग गुरु बीकेएस. अयंगार ने आसनों को सही तरह से करने के लिए कुछ सहायक चीजों का आविष्कार किया था। जैसे, ब्लॉक, बेल्ट, रस्सी और लकड़ी की बनी चीजें आदि।
 
योग को सही मुद्रा में करने के लिए व्यक्ति के शरीर का संरचनात्मक ढांचा सही रूप में होना जरूरी होता है। उनका मानना था कि अगर आसन को सही तरह से किया जाए, तो शरीर और मन को नियंत्रण में रखा जा सकता है, जिससे शरीर स्वस्थ तो रहता ही है। बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी शरीर में बढ़ जाती है। योग गुरु बीकेएस अयंगर का मानना था कि परिवर्तन व्यक्ति में बदलाव लाने में मदद करता है।

नारद संवाद

वाहन रिकॉल पोर्टल: गाड़ी में है डिफेक्ट तो करें सरकार से शिकायत, जानिए कैसे

Read More

हमारी बात

कारगिल विजय दिवस: अंतिम सांस तक लड़ते रहे वीर सपूत

Read More

Bollywood


विविधा

स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में सरकार की पहल से पहुंच रहा सुरक्षित जल

Read More

शंखनाद

अंतरिक्ष की दुनिया की बड़ी खोज में भारतीय वैज्ञानिकों ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

Read More