BREAKING NEWS

मीडियाभारती वेब सॉल्युशन अपने उपभोक्ताओं को कई तरह की इंटरनेट और मोबाइल मूल्य आधारित सेवाएं मुहैया कराता है। इनमें वेबसाइट डिजायनिंग, डेवलपिंग, वीपीएस, साझा होस्टिंग, डोमेन बुकिंग, बिजनेस मेल, दैनिक वेबसाइट अपडेशन, डेटा हैंडलिंग, वेब मार्केटिंग, वेब प्रमोशन तथा दूसरे मीडिया प्रकाशकों के लिए नियमित प्रकाशन सामग्री मुहैया कराना प्रमुख है- संपर्क करें - 0129-4036474

भारत के पास होगा स्मार्ट पावर ट्रांसमिशन सिस्टम, टास्क फोर्स की रिपोर्ट को मिली स्वीकृति

देश में जल्द ही एक आधुनिक और स्मार्ट पावर ट्रांसमिशन सिस्टम होगा, जिसमें रीयल-टाइम निगरानी और ग्रिड के स्वचालित संचालन जैसी विशेषताएं होंगी। यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग का उपयोग करके पूर्वानुमानित रखरखाव तकनीक का उपयोग करने की प्रणाली को समायोजित तरीकों से आगे बढ़ाएगा। ट्रांसमिशन संपत्तियों के निर्माण और निरीक्षण में रोबोट और ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा।

24X7 और सस्ती बिजली के लिए जरूरी

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने कहा कि सरकार के 24X7 विश्वसनीय और सस्ती बिजली के विजन को हासिल करने और स्थिरता के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए आधुनिक ट्रांसमिशन ग्रिड आवश्यक है। इसके लिए सीईए पहचान किए गए तकनीकी समाधानों को अपनाने के लिए आवश्यक मानक और नियम तैयार करेगा और बेंचमार्क प्रदर्शन स्तर निर्धारित करेगा।

टास्क फोर्स का हुआ था गठन

स्मार्ट पावर ट्रांसमिशन सिस्टम और अन्य सिफारिशें ट्रांसमिशन क्षेत्र के आधुनिकीकरण, स्मार्ट और भविष्य के लिए तैयार करने के तरीके सुझाने के लिए पावर ग्रिड के सीएमडी की अध्यक्षता में सितंबर, 2021 में बिजली मंत्रालय द्वारा गठित टास्क फोर्स की एक रिपोर्ट का हिस्सा हैं। टास्क फोर्स के अन्य सदस्यों में स्टेट ट्रांसमिशन यूटिलिटीज, सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी, सेंट्रल ट्रांसमिशन यूटिलिटीज, MeiTY, IIT कानपुर, NSGPMU और EPTA के प्रतिनिधि शामिल थे।

सरकार ने स्वीकारी समिति की रिपोर्ट  

समिति की रिपोर्ट को पिछले सप्ताह केंद्रीय मंत्री मंत्री आर.के. सिंह की अध्यक्षता में विचार-विमर्श के बाद सरकार ने स्वीकार कर लिया। बैठक के दौरान, मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि लोगों को 24×7 विश्वसनीय और सस्ती बिजली प्रदान करने और स्थिरता लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सरकार के दृष्टिकोण को प्राप्त करने के लिए एक आधुनिक ट्रांसमिशन ग्रिड महत्वपूर्ण है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक पूरी तरह से स्वचालित, डिजिटल रूप से नियंत्रित, तेजी से प्रतिक्रिया देने वाला ग्रिड जो साइबर हमलों और प्राकृतिक आपदाओं के प्रति लचीला हो, समय की मांग है। उन्होंने कहा कि इस तरह की प्रणाली को किसी भी आकस्मिकता के मामले में विशिष्ट क्षेत्रों को अलग-थलग करना सुनिश्चित करना चाहिए, ताकि ग्रिड की रक्षा की जा सके और बड़े आउटेज को रोका जा सके।

 भविष्य के लिए तैयार होंगे ट्रांसमिशन ग्रिड  

टास्क फोर्स ने अपनी रिपोर्ट में कई तकनीकी और डिजिटल समाधानों की सिफारिश की है, जिन्हें राज्य ट्रांसमिशन ग्रिड को भविष्य के लिए तैयार करने के लिए अपनाया जा सकता है। इन सिफारिशों को मौजूदा पारेषण प्रणाली के आधुनिकीकरण, निर्माण और पर्यवेक्षण, संचालन और प्रबंधन, स्मार्ट और भविष्य के लिए तैयार पारेषण प्रणाली और कार्यबल के कौशल विकास में उन्नत प्रौद्योगिकी के उपयोग की श्रेणियों के तहत जोड़ा गया है।

1-3 वर्षों में लागू होना होगा शुरू

समिति की रिपोर्ट के अनुसार रोबोट के उपयोग से न केवल मानवीय हस्तक्षेप को कम करने और जीवन के जोखिम/खतरों को कम करने की उम्मीद है बल्कि निर्माण और रखरखाव के दौरान सटीकता सुनिश्चित करने के साथ-साथ समय की बचत भी होती है। टास्क फोर्स ने वैश्विक ट्रांसमिशन यूटिलिटीज के प्रदर्शन के आधार पर ट्रांसमिशन नेटवर्क की उपलब्धता और वोल्टेज नियंत्रण के लिए बेंचमार्क की भी सिफारिश की है। अल्पकालिक से मध्यम अवधि की सिफारिशों को 1-3 वर्षों में लागू किया जाएगा, दीर्घकालिक हस्तक्षेपों को 3-5 वर्षों की अवधि में लागू करने का प्रस्ताव है।

नारद संवाद


हमारी बात

Bollywood


विविधा

अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस: भारत में क्या है बाल श्रम की स्थिति, क्या है कानून और पुनर्वास कार्यक्रम

Read More

शंखनाद

Largest Hindu Temple constructed Outside India in Modern Era to be inaugurated on Oct 8

Read More