BREAKING NEWS

मीडियाभारती वेब सॉल्युशन अपने उपभोक्ताओं को कई तरह की इंटरनेट और मोबाइल मूल्य आधारित सेवाएं मुहैया कराता है। इनमें वेबसाइट डिजायनिंग, डेवलपिंग, वीपीएस, साझा होस्टिंग, डोमेन बुकिंग, बिजनेस मेल, दैनिक वेबसाइट अपडेशन, डेटा हैंडलिंग, वेब मार्केटिंग, वेब प्रमोशन तथा दूसरे मीडिया प्रकाशकों के लिए नियमित प्रकाशन सामग्री मुहैया कराना प्रमुख है- संपर्क करें - 0129-4036474

महादेव के मंदिर में छुपे हैं कई रहस्य

राजस्थान के माउंट आबू स्थित अचलेश्वर महादेव मंदिर अपने आप में बिल्कुल अनूठा पूजा स्थल है। यहां भगवान शिव के दाहिने पैर के अंगूठे के स्वरूप की पूजा होती है। ऐसी मान्यता है कि इस पर्वत को स्वयं महादेव ने अपने दाहिने अंगूठे से थाम रखा है। स्कन्द पुराण के अर्बुद खंड में भी इस मंदिर का जिक्र मिलता है। अचलेश्वर महादेव मंदिर पश्चिमी राजस्थान के सिरोही जिले में ऋषि वशिष्ठ की तपस्थली माने जाने वाले माउंट आबू से 11 किमी दूर अचलगढ़ में स्थापित है। इस प्राचीन मंदिर के इतिहास में कई बड़े रहस्य छुपे हुए हैं। एक पौराणिक कथा के अनुसार अचलगढ़ में एक गहरी और विशाल खाई थी। इस गहरी खाई में ऋषि वशिष्ठ की गायें गिर जाती थीं। इस समस्या को लेकर ऋषियों ने देवताओं से इस खाई को बंद करने की गुहार लगाई, ताकि आश्रमों में पल रहीं गायों का जीवन बचाया जा सके। ऋषियों के आग्रह पर देवताओं ने नंदीवर्धन को उस खाई को बंद करने का आदेश दिया, जिसे अर्बुद नामक एक सांप ने अपनी पीठ पर रखकर खाई तक पहुंचाया था। लेकिन, अर्बुद सांप को इस बात का अहंकार हो गया कि उसने पूरा पर्वत अपनी पीठ पर रखा है और उसे अधिक महत्व भी नहीं दिया जा रहा है। इसके चलते अर्बुद सांप हिलने- डुलने लगा और इसकी वजह से पर्वत पर कंपन शुरू हो गया। इससे घबराए अपने भक्तों की पुकार सुन महादेव ने अपने अंगूठे से पर्वत को स्थिर कर दिया और अर्बुद सांप का घमंड चकनाचूर किया।  कहते हैं कि पर्वत को अचल करने की वजह से ही इस स्थान का नाम अचलगढ़ पड़ा। मंदिर में अंगुठानुमा प्रतिमा शिव के दाहिने पैर का वही अंगूठा है, जिससे शिव ने काशी से बैठे हुए इस पर्वत को थामा था। तभी से यहां अचलेश्वर महादेव के रूप में शिव के अंगूठे की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के अंगूठे ने पूरे माउंट आबू पहाड़ को थाम रखा है। जिस दिन अंगूठे का निशान गायब हो जाएगा, उस दिन माउंट आबू खत्म हो जाएगा। बताया जाता है कि यह विश्व का इकलौता मंदिर है, जहां महाकाल के अंगूठे नुमा गोल भूरे पत्थर की पूजा की जाती है। यह गोल पत्थर गर्भगृह के एक कुंड से निकलता है। कहते हैं कि गर्भगृह की जिस गोल खाई से पत्थर निकला है, उसका कोई अंत नहीं है। दावा किया जाता है कि इस ब्रह्मकुंड में डाले गए पानी का गतंव्य आज तक किसी को ज्ञात नहीं है। इस मंदिर की एक और खासियत यह है कि यहां स्थापित शिवलिंग दिन में तीन बार अपना रंग बदलता है। शिवलिंग देखने में आपको एकदम सामान्य लगेगा, लेकिन इसके बदलते हुए रंग आपको हैरान कर देंगे। शिवलिंग का रंग सुबह लाल, दोपहर में केसरिया और रात में काला हो जाता है। मंदिर में पंचधातुओं से बनी चार टन वजनी नंदी की मूर्ति भी स्थापित है। इसके अलावा मंदिर परिसर के विशाल चौक में चंपा का विशाल पेड़ अपनी प्राचीनता को दर्शाता है। मंदिर की बायीं ओर दो कलात्मक खंभों का धर्मकांटा बना हुआ है, जिसकी शिल्पकला अद्भुत है। कहते हैं कि इस क्षेत्र के शासक राजसिंहासन पर बैठने के समय अचलेश्वर महादेव से आशीर्वाद प्राप्त कर धर्मकांटे के नीचे प्रजा के साथ न्याय की शपथ लेते थे।  मंदिर परिसर में द्वारिकाधीश मंदिर भी बना हुआ है। गर्भगृह के बाहर वराह, नृसिंह, वामन, कच्छप, मत्स्य, कृष्ण, राम, परशुराम, बुद्ध व कलंगी अवतारों की काले पत्थर की भव्य मूर्तियां स्थापित हैं। हर साल अचलेश्वर महादेव में शिवरात्रि पर्व विधि विधान पूर्वक हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यहां महाशिवरात्रि पर्व को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह रहता है।
 

 

नारद संवाद


हमारी बात

Bollywood


विविधा

अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस: भारत में क्या है बाल श्रम की स्थिति, क्या है कानून और पुनर्वास कार्यक्रम

Read More

शंखनाद

Largest Hindu Temple constructed Outside India in Modern Era to be inaugurated on Oct 8

Read More