BREAKING NEWS

मीडियाभारती वेब सॉल्युशन अपने उपभोक्ताओं को कई तरह की इंटरनेट और मोबाइल मूल्य आधारित सेवाएं मुहैया कराता है। इनमें वेबसाइट डिजायनिंग, डेवलपिंग, वीपीएस, साझा होस्टिंग, डोमेन बुकिंग, बिजनेस मेल, दैनिक वेबसाइट अपडेशन, डेटा हैंडलिंग, वेब मार्केटिंग, वेब प्रमोशन तथा दूसरे मीडिया प्रकाशकों के लिए नियमित प्रकाशन सामग्री मुहैया कराना प्रमुख है- संपर्क करें - 0129-4036474

श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठाः हमारी आस्था ही नहीं सनातन संस्कृति के भी प्रतीक है श्री राम-भजनलाल

जयपुर। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा कि आज शताब्दियों की प्रतीक्षा, अनेक रामभक्तों के त्याग, बलिदान तथा संघर्षों के बाद जन-जन के आराध्यदेव मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री रामलला का प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव अयोध्या में सम्पन्न हुआ। हम सब भाग्यशाली है कि इस अलौकिक, स्वर्णिम तथा पवित्र क्षण के साक्षी बने। उन्होंने कहा कि राम हमारे रोम-रोम में बसे है, श्री राम हमारी आस्था ही नहीं अपितु सनातन संस्कृति के भी प्रतीक है। मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम के अनुकरणीय जीवन से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए।
मुख्यमंत्री शर्मा सोमवार को नगर निगम ग्रेटर जयपुर एवं श्रीधर्म फाउंडेशन ट्रस्ट तथा जयपुर व्यापार महासंघ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित श्री रामलला दीपोत्सव कार्यक्रम में आमजन को संबोधित कर रह थे। उन्होंने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिस संकल्प के साथ 2014 में आपने चुना, वह आज साकार हुआ।
उन्होंने कहा कि राजस्थान के लिए यह गर्व की बात है कि यहां के बंशी पहाड़पुर के पत्थरों से भव्य मंदिर का निर्माण हुआ है। शर्मा ने कहा कि वीरभूमि राजस्थान के अनेक कारसेवकों ने इस महायज्ञ में अपने प्राणों की आहुती दी है। मैं खुद को भी सौभाग्यशाली मानता हूं कि मुझे भी कारसेवा में अयोध्या जाने का सुअवसर प्राप्त हुआ था और आज प्रभु श्री रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के इस ऐतिहासिक और गौरवशाली क्षण का साक्षी बना हूं।
शर्मा ने इस अवसर पर आयोजित दीपोत्सव में दीप प्रज्वलित किया। साथ ही, आयोजित ड्रोन शो तथा आतिशबाजी कार्यक्रम में भी भाग लिया। कार्यक्रम के दौरान सांसद रामचरण बोहरा, नगर निगम ग्रेटर महापौर सौम्या गुर्जर, उप महापौर पुनीत कर्नावट सहित कई जनप्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे।

साभार-khaskhabar.com

 

नारद संवाद


हमारी बात

Bollywood


विविधा

अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस: भारत में क्या है बाल श्रम की स्थिति, क्या है कानून और पुनर्वास कार्यक्रम

Read More

शंखनाद

Largest Hindu Temple constructed Outside India in Modern Era to be inaugurated on Oct 8

Read More