Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

MATHURA : कांग्रेस गांवों में तलाश रही वजूद || MATHURA : बरसाना की लठामार होली में न हो कोई हादसा, प्रशासन बरत रहा सतर्कता || नगर पालिका एवं नगर पंचायतें कार्यों को मार्च तक पूर्ण कराये || MATHURA : महर्षि गौतम जयंती महोत्सव की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || MATHURA : लोगों को कैंसर के प्रति किया जागरूक

MATHURA : यह नाम नहीं आ रहा रास

मथुरा। नाम में दम चाहिए, जब नाम में दम होता है तो जनता भी डरती है और रौब भी गालिब होता है। यही वजह है कि विभिन्न संगठनों की मांगों पर सरकार समय समय पर कर्मचारियों के पदनामों को बदलती रही है जैसे लेखपालों का परिवेक्षण करने वाले अधिकारी का नाम कई बार बदला गया। पूर्व प्रचलित नाम गिरदावर कानूनगो था। इसे बदल कर सुपरवाइजर कानून गो कर दिया गया। बाद में सुपरवाइजर कानूनगो से बदलकर भू लेख निरीक्षक और वर्तमान में राजस्व निरीक्षक कर दिया गया। जबकि बेचारे लेखपाल साठ साल से लेखपाल ही बने हुए हैं। इसी प्रकार ग्राम सेवक से ग्राम विकास अधिकारी, पंचायत सचिव से ग्राम पंचायत अधिकारी, कनिष्ठ लिपिक से कनिष्ठ सहायक, नलकूप चालक से नलकूप प्रभारी, चैकीदार से ग्राम प्रहरी आदि नाम परिवर्तित किये गये हैं लेकिन इस बीच किसी ने लेखपालों की सुध नहीं ली। यह बात अब लेखपालों को खलने लगी है और अब वह अपने लिए भी कोई रौबीला सा नाम चाहते हैं, जिसकी कुछ धमक बने। हालांकि ऐसा नहीं है कि लेखलापों ने इससे पहले ये प्रयास नहीं किया लेकिन प्रयास रंग नहीं लाया। तीन मई 2016 को हुई राजस्व परिषद की बैठक में तथा 31 अक्टूबर 2017 में लिये गये निर्णय के अनुशार लेखपाल का पदनाम राजस्व उपनिरीक्षक किये जाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। अपर मुख्य सचिव राजस्व ने 9 जुलाई 2019 हुई बैठक में लेखपाल का नाम परिवर्तित किये जाने पर सैद्धांतिक सहमति भी बनी थी। जिस पर कार्मिक विभाग से अनापत्ति भी प्राप्त हो चुकी है। इसके बावजूद शासन से कोई शासनादेष अभी तक पारित नहीं हुआ है।
मंगलवार को प्रदेशव्यापी आव्हान पर लेखलानों ने सभी तहसील मुख्यालयों पर प्रदर्षन किया। इस दौरान उनकी दर्जन भर मांगे थीं जो लम्बे समय से चली आ रही थीं। इन मांगों में लेखलान पदनाम परिवर्तन किये जाने को लेकर भी लेखपालों के अंदर खासी बेचैनी देखी गई। आंदोलित लेखपालों को उम्मीद यही है कि उन्हें भी जल्द ही दमदार और रौबीला नाम मिल जाएगा।

 


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

टोंक। कोतवाली टोंक पुलिस ने शनिवार की शाम को चार जुआरियों को गिरफ्तार किया है, जिनसे 13260 रुपए व जुआ की सामग्री व ताशपत्ते जब्त की है। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार जुआरियों में बहीर जामा मस्जिद के पास टोंक निवासी अनीस पुत्र लाडला, मेहन्दी बाग टोंक निवासी रामदेव पुत्र कल्याणमल माली, धन्ना तलाई कच्ची बस्ती निवासी फिरोज पुत्र फज्जु तथा बनवारी लाल बैरवा के मकान के पास काली पलटन निवासी अल्लादीन पुत्र अजीज को पकड़ा है।  साभार-khaskhabar.com  

Read More

Bollywood

दर्शन