Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

कर्नाटक में बस में आग लगी, परिवार के 5 लोग जिंदा जले || संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले-स्वदेशी का मतलब विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार नहीं || वाराणसी : अतिरिक्त सीएमओ की कोरोना से मौत, परिजनों को दिया दूसरे का शव

खेल समाज में सकारात्मक बदलाव का उपकरण है : सुमित कुमार

मथुरा। दिल्ली काउंसिल फॉर स्पोर्ट्स एंड एजुकेशन (डीसीएसई) संस्था वर्ष 2017 से शिक्षा एवं खेल के क्षेत्र में प्रतिभाओं को संवारकर उन्हें उचित मंच मुहैया कराने में लगी है ।

यह संस्था इंडियन काउंसिल फॉर स्पोर्ट्स एंड एजुकेशन की एक इकाई है। संस्था के महासचिव सुमित कुमार सिंह एवं सचिव शिवम सिंह के अनुशार हम खेल को समाज में सकारात्मक बदलाव का एक उपकरण मानते हैं एवं इसके माध्यम से जमीनी स्तर पर खेल प्रतिभाओं को तराश कर लोगों एवं व्यापक समुदाय के जीवन में बेहतरी लाने की कोशिश कर रहे हैं  काउंसिल के चेयरमैन बलराज सिंह, अध्यक्ष विकास गुप्ता, मुख्य संरक्षक उषा सिंह का कहना है कि गत तीन वर्षों में संस्था ने कई उपलब्धियां प्राप्त की हंै।

जिनमें महात्मा गांधी एवं शास्त्री की जयंती पर राष्ट्रीय खिलाड़ियों का सम्मान, जयपुर में आयोजित तीसरे एवं जोधपुर में आयोजित चैथे अखिल भारतीय चैंपियनशिप में भागीदारी, भोपाल में आयोजित तीसरे राष्ट्रीय ओपन तथा दिल्ली में साइड फुटबॉल चैंपियनशिप का आयोजन, एशियन स्कूल इनडूर चैंपियनशिप में सहभागिता, भारतीय सेना के सम्मान में रक्षाबंधन समारोह, इंडो-नेपाल पेसिफिक गेम, स्केटिंग चैंपियनशिप आदि का आयोजन रहा है ।


यह संस्था गैर लाभकारी है अतः इसके सारे व्यय सदस्यों द्वारा सहयोग से उठाए जाते हैं। टीम को अन्य राज्यों में भेजने के लिए आयोजकों एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों की मदद की जरूरत पड़ती है। संस्था के महत्वपूर्ण कार्यों में कमजोर वर्ग के प्रतिभाओं को मुफ्त शिक्षा, खेल प्रशिक्षण, खेल के उपकरण, निःशुल्क अध्ययन सामग्री, इंटर्नशिप मुहैया कराना, विद्यालय स्तर पर जाकर सेमिनार एवं कार्यशाला का आयोजन रहा है। भारतीय खेल एवं शिक्षा परिषद के अध्यक्ष अरविंद चित्तौड़िया ने दिल्ली खेल एवं शिक्षा परिषद द्वारा किए जा रहे कार्य की प्रशंसा की है और उन्हें बधाई दिया।


कोरोना महामारी के आपदा के समय भी यह संस्था समाज के कल्याण के अनेक कार्यक्रम चला रहा है जिसमें झुग्गी बस्तियों में राशन बांटना, खेल प्रशिक्षकों द्वारा फेसबुक एवं अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खेल प्रशिक्षण के लाइव सत्रों का आयोजन, स्वदेशी उत्पादों के प्रति लोगों को प्रोत्साहित करना एवं कोरोनावायरस में स्वास्थ्य रक्षा के प्रति जागरूकता अभियान आदि है।


कोरोना विशेष

मथुरा। मुड़िया मेला, हरियाली तीज, रक्षाबंधन के बाद अब श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कोरोना का ग्रहण लग गया है। राधाष्टमी, बल्देव छठ जैसे ब्रज के आंचलिक आयोजन भी बिना भीडभाड के होंगे। मंदिरों पर भीड नहीं है।  

Read More

हमारी बात

मथुरा। देशभक्ति के कितने ही स्वरूप हो सकते हैं। कोरोना संकट ने ये साबित कर दिया कि देशभक्ति दिखने के लिए आप के आपके पास किसी भी जगह मौका है। एक नौजवान चिकित्सक ने कोरोना के मरीजों के इलाज में अपनी पूरी ताकत झौंक दी है।  

Read More

Bollywood

दर्शन