Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

मथुरा : तीन में से दो शिक्षकाएं मेडिकल लीव पर मिलीं || MATHURA : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा ने किए मेधाओं का सम्मान || MATHURA : आतंकवाद से लडते हुए इंदिरा गांधी ने दी प्राणों की आहुतिः माथुर || MATHURA : दो युवकों को मुठभेड के बाद किया पुलिस ने गिरफ्तार

MATHURA : हाईकोर्ट बैंच के लिए अधिवक्ताओं के साथ आये सामाजिक संगठन

मथुरा। 24 करोड की जनसंख्या वाले प्रदेष में एक नहीं कई हाईकोर्ट बैंच की आवष्यक्ताा है। हाईकोर्ट बैंच स्थानपना को राजनीतिक मुद्दा बना दिया गया है, जबकि यह विषुद्ध रूप से लोगों के न्याय के मूल अधिकार से जुडा है। इस पर राजनीति होना दुर्भाग्यपूर्ण है। खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के  तत्वावधान में बौहरे कन्हैयालाल हाल बार एसोसिएशन में ब्रजप्रदेश में हाईकोर्टबैंच स्थापना हेतु वृहद विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। 
   इसमें मुख्य अतिथि बार कौंसिल उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष शिवकिशोर गौड़ ने कहाकि खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के सहसंयोजकगण नीरज राठौड़ एडवोकेट, अरविन्द कुमार बिट्टू एडवोकेट, वरुण शर्मा एडवोकेट, उप संयोजक सोम तिवारी एडवोकेट आदि के द्वारा हाईकोर्टबैंच आंदोलन को धार देने के उद्देश्य से जो मेहनत की जा रही है, उसकी जितनी प्रशंसा की जाए वो कम है, उन्होंने कहा कि हाईकोर्टबैंच जल्द ही ब्रज प्रदेश को मिलेगी, राधारानीजू ने चाहा तो शीघ्र ही भागीरथी इन युवा अधिवक्तागण के सिर आएगी। बागपत से आए विद्वान अतिथि अजय कुमार शर्मा ने कहा कि हमारे प्रदेष की जनसंख्या 24 करोड़ है और हाईकोर्टबैंच कायदे में एक भी नहीं, जबकि यदि पांच प्रदेश बना दिए जाऐं तो पांच हाईकोर्ट बनानी पड़ैंगी, इस प्रकार केवल एक नहीं, पांच हाईकोर्टबैंच की आवश्यकता है। 
  नीरज राठौड़, एड. ने कहा कि वो राजपूत हैं, और राजपूत तलवार या बंदूक की लड़ाई लड़नै वाले समझे जाते हैं, जबकि ऐसा नहीं है, आज के समय में राजपूत कलम की लड़ाई लड़ना भी अच्छी तरह जानता है, आप यकीन मानिए हम लोग ब्रजप्रदेश में शीघ्रातिशीघ्र हाईकोर्टबैंच लाने वाले हैं, जो अब तक नहीं हुआ वह अब होगा, अब सिर्फ और सिर्फ रण होगा। ब्रज प्रदेश निर्माण मोर्चा के संयोजक अजय कुमार अग्रवाल ने कहा कि हाईकोर्टबैंच ब्रजप्रदेश के निवासियों की बहुत पुरानी मांग है जो तुरंत पूरी की जानी चाहिए, उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से भी अपील की कि कोई तारीख तय की जाये, जिस तारीख तक यदि हाईकोर्टबैंच की स्थापना नहीं होती तो आप हाईकोर्टबैंच की मांग को ब्रजप्रदेश की मांग में जोड़ दें। खुर्जा बार एसोसिएशन के अध्यक्ष जयवीर सिंह एडवोकेट ने कहा कि ब्रज के इन युवा अधिवक्तागण की ताजा हवा जैसी मुहिम ने उन्हें अति प्रसन्न कर दिया है भगवान श्रीकृष्ण की कृपा से आप लोगों को जल्द ही हाईकोर्टबैंच मिल जाएगी और आपका आंदोलन सफल हो जाएगा। अंकुर गर्ग एड. ने बताया कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लगभग 500 युवा अधिवक्ता आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर हाईकोर्टबैंच आंदोलन लड़ने को हर वक्त तैयार हैं, आप लोग रुपरेखा बनाइए बस, जुगेन्द्र सिंह चैधरी ने कहा कि आप सभी अपनी इस हाईकोर्टबैंच की मांग के साथ जनता की आधारभूत समस्याओं जैसे बिजली, पानी, चिकित्सा जैसी समस्य आदि को जोड़ें, जिले के ही नहीं आपको सम्पूर्ण ब्रजप्रदेश के पत्रकारों का साथ मिलेगा और हाईकोर्टबैंच आंदोलन जल्द ही सफलता को प्राप्त होगा। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद बार एसोसिएशन मथुरा के सचिव विशाल सिंह ने कहा कि बार एसोसिएशन मथुरा अपने युवा अधिवक्ताओं के साथ खड़ी है और हाईकोर्टबैंच आंदोलन को और तेजी से कैसे चलाया जाये इस पर विचार अवश्य किया जायेगा। अध्यक्षीय भाषण देते हुए बार एसोसिएशन मथुरा के अध्यक्ष अवधेश सिंह चैहान ने कहा कि बार एसोसिएशन मथुरा खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा को ना केवल अपना संरक्षण दे रही है बल्कि अपने युवा साथियों को आश्वस्त करती है कि हाईकोर्टबैंच आंदोलन को चलाए जाने के लिए मजबूती से साथ खड़ी है। हरिहरनाथ शर्मा, अरविन्द कुमार बिट्टू, प्रमोद वर्मा एडवोकेट, सुभाष सैनी, वरिष्ठ अधिवक्ता ठा. मदनगोपाल सिंह, योगेश योगीराज, अधिवक्ता अवधेश शर्मा, मोहन सिंह, कु. अलका शर्मा एड.,
यशवंत सिंह, नवोदित गोस्वामी एड., सुरेन्द्र गौतम एड., हिमांशु गोस्वामी एड., शाहरुख खान एड., तरुन अग्रवाल एड., पंकज कुमार एड., राकेश कुमार सिंह एड. , बालकृष्ण शर्मा एड.,  दीपक चतुर्वेदी, दीपक सारस्वत, संजय कुमार दीक्षित, षिवषंकर षर्मा आदि ने भी विचार व्यक्त किये।ं खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के सहसंयोजकगण ठा. अमित सिंह जादौन एड. व पंडित वरुण शर्मा एडवोकेट का सहयोग प्रशंसनीय रहा। संचालन खंडपीठ स्थापना संघ (युवा) मथुरा के संयोजक पंडित ललित शर्मा एडवोकेट ने किया।

 


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

बिहार, पूर्वी यूपी के लिए शराब तस्करी का ’प्रवशे द्वार’ बना मथुरा

Read More

Bollywood

दर्शन