BREAKING NEWS

मथुरा : 15 अक्टूबर को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की होगी बैठक || मथुरा : रात में विफल हुई अधिकारियों के साथ भाकियू की वार्ता || मथुरा : हृदय रोग से बचाव के लिए करें नियमित व्यायाम, बनायें जंक फूड से दूरी

मथुरा : टीकाकरण के लिए रविवार को भी खुलेंगे विद्यालय

मथुरा। एक बार फिर से मथुरा जनपद में पल्स पोलियो अभियान 19 जनवरी से चलाया जाएगा जो 24 जनवरी तक चलेगा। इस चरण के लिए भी जन्म से पांच वर्ष तक के 4 लाख 79 हजार 106 बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शुक्रवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. शेर सिंह ने इस चरण के लिए अधीनस्थों को निर्देश जारी किए हैं। जिले भर में 1293 बूथ हैं जो पहले से फिक्स हैं। इन पर 19 जनवरी को बूथ स्तर पर पोलियो अभियान चलाया जाएगा। अभियान के तहत 798 टीमें और 61 मोबाइल टीम भी बनाई गई हैं। कुल 2003 गांव और शहरी क्षेत्रों के मोहल्ले कवर किए जाने का लक्ष्य है। जिले में 4 लाख 71 हजार 894 घरों तक पहुंचने का  कुल लक्ष्य है। ट्रांजिट बूथ 95 होंगे।
ये टीमें 20 से 24 जनवरी 2020 तक घर-घर जाकर बच्चों को पोलियो की दवा पिलाएगी। एक अन्य बी टीम द्वारा 27 जनवरी को भी पोलियो की खुराक पिलाई जाएगी। पल्स पोलियो के कार्यक्रम को सकुशल निपटाने के लिए एएनएम, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता इसमें सहयोग करेंगी।
पोलियो की दवा पाँच वर्ष से कम उम्र के सभी बच्चों के लिये आवश्यक है। यह दवा जन्म पर, छठे, दसवें व चैदहवें सप्ता्ह में फिर 16 से 24 माह की आयु में बूस्टर की खुराक दी जानी चाहिए। पाँच वर्ष तक की आयु के बच्चों को बार-बार खुराक पिलाने से इस बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ती है जो पोलियो के विषाणु को पनपने से रोकती है। पोलियो या पोलियोमेलाइटिस एक गंभीर और खतरनाक बीमारी है। पोलियो वायरस से होता है। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक फैलता है। साथ ही यह वायरस जिस भी व्यक्ति में प्रवेश करता है उसके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाता है जिसकी वजह से लकवा भी हो सकता है।

रविवार को भी खुले रहेंगे विद्यालय
रविवार 19 जनवरी को जनपद के समस्त प्राथमिक विद्यालय खुले रहेंगे। इस दौरान मिड-डे मील का वितरण होगा। पिछले चरणों की तरह ये अभियान चलेगा।

18 जनवरी को निकलेगी पोलियो रैली
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत को पहले ही पोलियो फ्री देश  घोषित कर दिया है, लेकिन पड़ोसी देश पाकिस्तान, बंगला देश में यह वायरस अभी भी है। वहां से आने जाने वाले लोगों के जरिये इसके फैलने का खतरा बरकरार है। इसलिए एहतियात के तौर पर पल्स पोलियो अभियान चलाया जाता है। बूथ दिवस से एक दिन पूर्व 18 जनवरी को जागरूकता रैली सभी ब्लॉकों पर निकाली जाएगी, जिससे ज्यादा से ज्यादा बच्चे बूथ दिवस पर आकार पोलियो की दवा पी सके।

 


कोरोना विशेष

मथुरा। कोविड शव को ले जा रही एम्बूलेंस का चालक अचानक बेहोश हो गया। हालांकि किसी तरह की कोई दुर्घटना नहीं हुई। स्थानीय लोगों ने चालक को एम्बूलेंस से निकाला। घटना की सूचना अधिकारियों को दी। 

Read More

हमारी बात

एक केंद्रीय मंत्री बोले में किसान हु अरे भाई जिस थाली में खाते हो क्या किसान उस थाली में खा सकता है

Read More

Bollywood

दर्शन