Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

मथुरा में आगरा एक्सप्रेसवे पर भीषण हादसा, ट्रक से टकराई कार, 5 लोगों की दर्दनाक मौत || MATHURA : केडी में इलाज करा रहे कोरोना मरीजों की संख्या तीन दर्जन से अधिक हुई || MATHURA : दंपती समेत तीन की मौत || MATHURA : पानी सप्लायर को भेजा क्वारंटाइन सेंटर || MATHURA : दो साल से दे रहा था पुलिस को चकमा, गिरफ्तार || MATHURA : चीन के राष्ट्रपति का पुतला फूंका

कोरोना संकट : परिवारों को पहुंचाये राशन बैग

मथुरा। कोरोना का संकट काल में प्रवासी मजदूरों के पैदल पलायन, इलाज न मिलने से अस्पतालों के बाहर लोगों की मौत, रोजगार संकट और लाॅकडाउन में पैदा हुई दुश्वारियों के लिए ही नहीं जाना जाएगा। इस दौरान समाज सेवा की कुछ ऐसी पटकथाएं भी लिखी गई हैं, लम्बा समय गुजरने के बाद जब इनका जिक्र होगा तो लोगों को सुकून देगा। जनसेवा का एक ऐसा ही अध्याय अक्षयपात्र फाउंडेशन लिख रही है। देश भर में स्कूली बच्चों को मिड डे मील उपलब्ध कराने वाली संस्था अक्षय पात्र फाउंडेशन ने पके भोजन एंव खाद्य सामग्री किट का वितरण किया। संस्था का दावा है कि देश के 17 राज्यों व दो केन्द्र शासित प्रदेशों में दो करोड से अधिक भोजन थाली तथा 6 लाख से अधिक लोगों को खाद्य सामग्री किट  का वितरण कर लाभांवित किया। वहीं मथुरा के काशी, प्रयागराज, लखनउ, गोरखपुर, आगरा, मथुरा आदि जनपदों में 51 हजार से अधिक खाद्य सामग्री किट वितरित किये। यह क्रम निरंतर जारी है।
अक्षयपात्र फाउंडेशन वृंदावन ने कोरोना से उत्पन्न हुई आपातकालीन परिस्थिति में मथुरा जनपद में सोमवारको 17 लाख वीं थाली का वितरण किया। इस अवसर पर संस्था के पदाधिकारी अनंतवीर दास प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि मजदूर, जरूरतमंदों, तीर्थ पुरोहित, पंडा समाज को 17 लाख भोजन थाली का वितरण किया है। वहीं 12460 परिवारों को राशन सामग्री उपलब्ध कराई गयी। राशन सामग्री में पांच किलो आटा, दो किलो अरहर दाल, दो किलो चना, एक लीटर सरसों का तेल, सभी मसाले, हाथ साफ करने के लिए दो साबुलन आदि एक पैकेट के रूप में उपलब्ध कराये गये। यह सेव बिना किसी धार्मिक, राजनीतिक और जातिगत भेदभाव के की गई है।  

आरएसएस ने की सेवा कार्यों की समीक्षा
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मथुरा विभाग की एक ऑनलाइन बैठक में कोरोना संकट काल में किये गये सेवा कार्यों की समीक्षा हुई। बैठक की शुरुआत संगठन मंत्र से हुई, इसके पश्चात सह विभाग कार्यवाह डॉ संजय ने सभी इकाइयों से अपने अपने वृत्त को बताने को कहा। हॉटस्पॉट चिन्हित किए क्षेत्रों में 36 गलियों में 78 स्वयंसेवक काम कर रहे हैं। इसके अलावा प्रशासन से इतर कुल 193 स्वयंसेवक अपने सामर्थ्य से अलग अलग सेवा कार्यों को संपादित करने में जुटे हुए हैं।महानगर में खाना बनाने के 11 रसोई संचालित हैं, जिनका की सभी 10 नगरों में स्थान स्थान पर वितरण होता है। अब तक करीब 10200 पैकेट राशन के पैकेटों का वितरण किया जा चुका है। द्वारिकेश नगर के स्वयंसेवकों द्वारा 5 बोतल सनेटाइजर बांटा जा चुका है, कुल  12000 सूती मास्क और 10000 ग्लब्स भी बांटे जा चुके हैं। 19 अप्रैल को दीपक जलाने का आह्वाहन होने आर उसी दिन 11000 दीपक सभी 10 नगरों में मिलाकर बांटे गए।कुल 18 जगहों पर 99 कोरोना योद्धा सम्मानित किए गए जिसमें 10 स्थान पर 52 पुलिस कर्मी, 6 स्थान पर 16 सफाईकर्मी, और दो अस्पतालों में 31 डॉक्टर और स्टाफ सम्मानित किए गए।नगर निगम की टीम के साथ भी संघ के स्वयंसेवकों ने सनेटाइजेशन का कार्य किया जिसमें 55 स्थानों पर लगभग 170 स्वयंसेवकों ने सैनिटाइजर का छिड़काव कराया।