Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

मथुरा : तीन में से दो शिक्षकाएं मेडिकल लीव पर मिलीं || MATHURA : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा ने किए मेधाओं का सम्मान || MATHURA : आतंकवाद से लडते हुए इंदिरा गांधी ने दी प्राणों की आहुतिः माथुर || MATHURA : दो युवकों को मुठभेड के बाद किया पुलिस ने गिरफ्तार

KARWA CHAUTH 2019 : करवा चौथ पर इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना अधूरा है करवा चौथ व्रत

करवा चौथ का व्रत इस साल 17 अक्टूबर (गुरूवार) को है। जिसके लिए महिलाएं तैयारियां शुरू कर चुकी हैं, हर व्रत के कुछ नियम होते हैं, जिनका पालन करना जरूरी माना जाता है। बता दें कि पूजा करने से लेकर सरगी तक कई सारे नियम होते हैं। इसके अलावा व्रत से जुड़े कुछ रिवाज भी होते हैं, जिनको निभाया जाता है। इसके बिना करवा चौथ का व्रत अधूरा माना जाता है।

सरगी का उपहार
सरगी करवा चौथ के एक दिन पहले का रश्म है, जिसमें सास अपनी बहु को आशिर्वाद के रूप में सरगी देती है। सरगी में मिठाई, फल मेवे आदी होता है, जिसे सूर्योदय के वक्त से व्रत से पहले खाना होता है, जिससे दिनभर व्रत करने में उर्जा मिलती हैं। निर्जला व्रत
करवा चौथ का व्रत निर्जला रखा जाता है इसमें व्रती को पूरे दिन तक पीना वर्जित रहता है। व्रत करने वाली महिलाएं पूजा पाठ करने माता गौरी और भगवान शिव को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं, ताकि उन्हें अखंड सुहाग और सुखी दाम्पत्य जीवन का आशीर्वाद मिले।

शिव-गौरी की मिट्टी की मूर्ति
करवा चौथ के दिन माता गौरी और भगवान गणेश जी की पिली मिट्टी से मूर्ति बनाई जाती है। इसके बाद उन्हें छोटे से चौकी पर लाल वस्त्र बिछाकर स्थापित किया जाता है। करवा चौथ की कथा
करवा चौथ के दिन शादीशुदा महिलाएं या जिनकी शादी होने वाली हैं वो अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत करती हैं। ये व्रत सुबह सूरज उगने से पहले से लेकर और रात्रि में चंद्रमा निकलने तक रहता है। दिन में पूजा की तैयारी के बाद शाम में महिलाएं एक जगह एकत्र होती हैं। वहां पर पंडित जी करवा चौथ की कथा सुनाती हैं। पूजा की ताली को सात बार फेरना
करवे और लोटे को सात बार फेरने की एक विधी होती है, इसका अर्थ होता है कि घर की औरतों के बीच में प्यार बना रहे। साथ मिलकर पूजा करें और कहानी सुनने के बाद दो-दो महिलाएं अपने करवे सात बार फेरती हैं जिससे घर में सभी प्रेम के बंधन में मजबूती से पकड़े रहे। साभार-khaskhabar.com


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

बिहार, पूर्वी यूपी के लिए शराब तस्करी का ’प्रवशे द्वार’ बना मथुरा

Read More

Bollywood

दर्शन