Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

MATHURA : किसानों के बीच पैठ मजबूत करने में जुटी कांग्रेस || MATHURA : गंदगी से परेशान हैं वार्ड 43 के निवासी || MATHURA : बरसाना में शुरू हुआ 12 दिवसीय निःशुल्क चिकित्सा शिविर || मथुरा : आहट से कर्मचारियों में बढ़ी बेचैनी

GREATER NOIDA : COP14 में PM मोदी बोले, भारत पानी बचाने के लिए अपने कदम बढाए

ग्रेटर नोएडा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi ) ने संयुक्त राष्ट्र के कॉन्फ्रेंस ऑफ द पार्टीज यानी कॉप के 14वें (COP14) अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा है कि भारत दो साल के कार्यकाल के लिए सीओपी प्रेसीडेंसी को संभालने के लिए एक प्रभावी योगदान देने के लिए भी तत्पर है। आप सभी का भारत में स्वागत करता हूं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम अपनी धरती को मां मानते हैं।
अपडेट..
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के संस्कारों में धरती पवित्र है, हर सुबह जमीन पर पैर रखने से पहले हम धरती से माफी मांगते हैं। आज दुनिया में लोगों को क्लाइमेट चेंज के मसले पर नकारात्मक सोच का सामना करना पड़ रहा है, इसकी वजह से समुद्रों का जल स्तर बढ़ रहा है, बारिश, बाढ़ और तूफान हर जगह इसका असर देखने को मिल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने इस मसले पर तीन बड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया है, इससे हमारी कोशिशों के बारे में दुनिया को पता लगता है। मोदी ने कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता और भूमि क्षरण के मसले पर दुनिया में कई कदम उठाने को तैयार है।

आज दुनिया में पानी की समस्या काफी बढ़ी है, दुनिया को आज पानी बचाने के मसले पर एक सेमिनार बुलाने की जरूरत है जहां पर इन मसलों का हल निकाला जा सके। भारत पानी बचाने, पानी का सही इस्तेमाल करने की ओर कदम बढ़ा चुका है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने ग्रीन कवर (पेड़ों की संख्या) को बढ़ाया, 2015-2017 के बीच भारत का जंगल का एरिया बढ़ा है।

इससे पहले केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि भारत सरकार की आेर से जलवायु परिवर्तन के मसले क्या कदम उठा रही है। जावड़ेकर ने कहा कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में टाइगर रिजर्वेशन के नंबरों का खुलासा किया है। दुनिया के 77 फीसदी वाइल्ड टाइगर आज भारत में रहते हैं, जो हमारे लिए गर्व की बात है।
इस मौके पर सेंट विसेंट के प्रधानमंत्री भी मौजूद थे । इस सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता और बढ़ते रेगिस्तान पर चिंतन किया जा रहा है। करीब 80 देशों के मंत्री, वैज्ञानिक और स्वयंसेवी संस्थाएं भाग ले रही हैं। देश और दुनिया में इन समस्याओं से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों को विश्वमंच पर साझा किया जाएगा।


साभार-khaskhabar.com 


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

पुलिस लाइन के सामने क्या करने आया था लूट हत्या मुठभेड में वांछित 25 हजार का इनमी?

Read More

Bollywood

दर्शन