Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

मथुरा : तीन में से दो शिक्षकाएं मेडिकल लीव पर मिलीं || MATHURA : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा ने किए मेधाओं का सम्मान || MATHURA : आतंकवाद से लडते हुए इंदिरा गांधी ने दी प्राणों की आहुतिः माथुर || MATHURA : दो युवकों को मुठभेड के बाद किया पुलिस ने गिरफ्तार

दिवंगत पत्रकार के परिवार को मिला 20 लाख का ड्राफ्ट

दिवंगत पत्रकार के परिवार को मिला 20 लाख का ड्राफ्ट रंग लाई ब्रज प्रेस क्लब व उप्र मान्यता संवाद समिति की पहल

मथुरा। इलैक्ट्रनिक चैनल के पत्रकार हरीश माहौर के आकस्मिक निधन पर ब्रज प्रेस क्लब व उप्र मान्यता संवाद समिति द्वारा संयुक्त रूप से की गई मुआवजे की पहल रंग लाई है। दिवंगत पत्रकार की पत्नी को मुख्यमंत्री पीडि़त सहायता कोष से 20 लाख रूपए की आर्थिक सहायता का ड्राफ्ट दिया गया है। 

बतादें कि ब्रज प्रेस क्लब के अध्यक्ष व उपजा प्रदेश उपाध्यक्ष कमलकांत उपमन्यु एडवोकेट के नेतृत्व में पत्रकारों ने जिलाधिकारी नितिन बंसल से मिलकर मृतक के बच्चों व परिजनों को आर्थिक सहायता और आवास प्रदान किये जाने की मांग की थी। उपजा प्रदेश उपाध्यक्ष की पहल पर डीएम नितिन बंसल ने मात्र दो घंट के भीतर तत्काल संस्तुति कर सहायता आवेदन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को फैक्स द्वारा भेज दिया था। इसी पर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने दिवंगत पत्रकार हरीश माहौर के परिजनों को 20 लाख रूपए मुआवजा देने की घोषणा की थी। उप्र शासन के अनु सचिव (लेखा) गोकुला नंद जोशी ने मथुरा जिलाधिकारी को लिखे पत्र में कहा कि दिवंगत पत्रकार की पत्नी कांता माहौर को जीविकोपार्जन के लिए २० लाख की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है, जिसका सेन्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया कैंट रोड शाखा लखनऊ से जारी बैंक ड्राफ्ट संख्या-०७५१७८  अंकन राशि २० लाख रूपये को संलग्र कर प्रेषित करते हुए डीएम को निदेश किया है कि उक्त राशि का भुगतान आश्रित पत्नी को कराते हुए उनसे भुगतान संबंधित स्टैम्पयुक्त रसीद प्राप्त कर शासन से यथाशीघ्र उपलब्ध कराने को कहा है। विदित रहे कि उप्र मान्यता संवाद समिति अध्यक्ष हेमंत तिवारी व ब्रज प्रेस क्लब अध्यक्ष कमलकांत उपमन्यु एडवोकेट की पहल पर ही शासन से दिवंगत पत्रकार के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान की गई है।

 


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

बिहार, पूर्वी यूपी के लिए शराब तस्करी का ’प्रवशे द्वार’ बना मथुरा

Read More

Bollywood

दर्शन