BREAKING NEWS

मथुरा : सर्टिफिकेट ऑफ प्रैक्टिस के नाम पर हो रहा शोषण : रागिनी गांधी || मथुरा : वीरांगनाओं को महिला शक्ति सम्मान || मथुरा : ऑनलाइन व्यापार के विरोध में कैट का प्रदर्शन

हृदय रोग से बचाव के लिए करें नियमित व्यायाम, बनायें जंक फूड से दूरी

मथुरा। शारदा ग्रुप के प्रतिष्ठित संस्थान हिन्दुस्तान कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी के बायोटेक्नोलॉजी विभाग में राष्ट्रीय हार्ट दिवस पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि बी.एल.के. सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ और पूर्व निदेशक फॉर्टिस अस्पताल, नई दिल्ली के डॉ. सुभाष चन्द्रा रहे।


संस्थान के निदेषक डॉ. राजीव कुमार उपाध्याय ने मुख्य अतिथि डॉ. सुभाष चन्द्रा स्वागत किया और बायोटेक्नोलॉजी विभाग को यह वेबिनार का आयोजन के लिए बधाई दी। उन्हांने बताया कि इस वेबिनार का उद्देष्य हृदय रोगों से बचाव की जानकारी होना है और हृदय रोगों के नवीनतम विकास के बारे में जानना है।
मुख्य अतिथि डॉ. सुभाष चन्द्रा ने संस्थान के निदेषक डॉ. राजीव कुमार उपाध्याय और बायोटेक्नोलॉजी विभाग को धन्यवाद देते हुये अपने व्याख्यान में बताया कि इस दिन का उद्देष्य लोगों को हृदय रोगों के बारे में जागरूक करना है और विष्व स्वास्थ संगठन ने 29 सितम्बर को राष्ट्रीय हृदय दिवस घोषित किया है। उन्होंने बताया कि दुनिया भर में हृदय रोगियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और कोराना महामारी के वक्त में दिल की बीमारी लोगों को अधिक नुकसान पहुँचा रही है। जिस वजह से कोविड-19 की डर से मरीज घर में रहने के लिए ही मजबूर है। वह अपने रेगूलर चैकप के लिए भी नहीं जा पा रहे हैं। उन्होंने बताया गलत खान-पान, हर समय तनाव में रहना और समय पर व्यायाम न करने से यह बीमारी के हाने के आसार अधिक रहते हैं। उन्होंने बताया कि हृदय को स्वस्थ रखने के लिए नियमित व्यायाम, वजन नियंत्रण, फास्ट फूड का कम से कम प्रयोग करना जरूरी है। उन्होंने विभिन्न हृदय की बीमारियों के बारे में प्रतिभागियों को बताया जिसमें प्रमुख है कोरोनेरी आर्टरी रोग, हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर आदि हैं जिनका प्रमुख कारण धुम्रपान, वनज बढ़ना और तनाव हो सकता है। उन्होंने बताया कि दिल की बीमारियों के लिए कोई विषेष उम्र नहीं होती लेकिन हमारी गतिहीन इनएक्टिव लाइफ स्टाइल के कारण हमने 22 वर्ष के व्यक्ति में हृदय रोग का केस देखा है लेकिन जो लोग कम उम्र में हार्ट अटैक का सामना करते हैं उनमें बहुत अधिक रिस्क फैक्टर होता है। इसलिए हार्ट अटैक को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है नियमित व्यायाम करना, ताजे फल और सब्जियाँ खाना, धुम्रपान न करना। उन्होंने बताया अगर आप हृदय रोग से पीढ़ित हैं आपके पास हृदय रोग से जुड़ी दवाईयों का स्टॉक बहुत जरूरी है। यह दवाईयाँ डॉक्टरी सलाह के बिना न ली जायें। उन्होंने हृदय रोग के इलाजों के बारे में भी प्रतिभागियों को बताया जिसमें रिट्रोग्रेड इंजीयोप्लास्टी, नॉन सर्जीकल टेक्निक आदि है। उन्होंने बताया कि रिट्रोग्रेड इंजीयाप्लास्टी में हार्ट में एक डिवाइस लगाया जाता है जो रक्त परिसंचरण को ठीक करता है। इसे डॉ. चन्द्रा ने विडीयो के माध्यम से दिखाया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के समय लोग तरह-तरह के खाने में दिलचस्पी ले रहे हैं जिससे उनका वजन भी भड़ रहा हैं। उन्होंने बताया कि कोराना वायरस की वैक्सीन या इलाज आने में अभी कुछ महीने लग सकते हैं। उन्होंने बताया कि हृदय रोग की गम्भीरता को समझते हुये हमें उन आहारों का चुनाव करना होगा जो हमारे दिल के साथ-साथ पूरे शरीर के लिए सही हों।


इस अवसर पर प्रतिभागियों ने अपनी जिज्ञासाओं को दूर करने के लिए डॉ. चन्द्रा से कुछ प्रष्न किये जिसमें संस्थान के डीन अकैडिमिक श्री विजय कट्टा हार्ट ब्लाकेज के बारे में पूछा।


बायोटेक्नोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष श्री अजय कुमार शर्मा ने मुख्य अतिथि डॉ. सुभाष चन्द्रा को धन्यवाद देते हुये बताया कि आप के द्वारा दी गयी जानकारी हमारे प्रतिभागियों के लिए लाभकारी होगी। हम आषा करते हैं कि इन जानकारियों के बाद हमारे प्रतिभागी जंक फूड से दूरी बनाके रखेंगे और नियमित व्यायाम करेंगे.


इस कार्यक्रम का संचालन बायोटेक्नोलॉजी विभाग की छात्र सौम्या श्रीवास्तव ने किया। इस अवसर पर संस्थान के समस्त डीन्स, विभागाध्यक्ष, षिक्षकगण एवं विभाग के समस्त छात्र-छात्रायें उपस्थित रहे।  


कोरोना विशेष

मथुरा। कोविड शव को ले जा रही एम्बूलेंस का चालक अचानक बेहोश हो गया। हालांकि किसी तरह की कोई दुर्घटना नहीं हुई। स्थानीय लोगों ने चालक को एम्बूलेंस से निकाला। घटना की सूचना अधिकारियों को दी। 

Read More

हमारी बात

गाँधी जी को जानने के लिए आपको पढ़ना होगा और उन स्थानों पर जाना होगा जहाँ गांधीजी का सफर रहा है. सभी के अपने अपने मत है..समाज में अच्छाई से लेकर बुराई तक उनके बारे में भरी पड़ी है.

Read More

Bollywood

दर्शन