Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

जयपुर : गहलोत-पायलट की लड़ाई में अटकी राजनीतिक नियुक्तियां, अब करना होगा लंबा इंतजार || बिहार में बाढ़ से 21 लोगों की मौत, 69 लाख की आबादी प्रभावित || कोरोना : पंडा पुजारी मांग कर रहे है मुआवजे की || MATHURA : पुलिस बोली डिप्रेशन में था इंजीनियर, कानपुर से किया बरामद

DEV UTHANI EKADASHI 2019 : शुक्रवार को है देवउठनी एकादशी, एक हजार अश्वमेघ यज्ञ का फल पाने के लिए करें ये उपाय

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है। कहा जाता है कि भगवान विष्णु चार माह के शयनकाल के बाद देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं। इस साल देवउठनी एकादशी आठ नवंबर को मनाई जायेगी। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार एकादशी के दिन से कोई भी शुभ काम किया जा सकता है।

कहा जाता है कि इस दिन यदि विधिवत पूजा अर्चना की जाए तो पूजा करने वाले जातक को एक हजार अश्वमेघ यज्ञ के बराबर का पुण्य प्राप्त होता है। गुरूड़ पुरान के अनुसार, भगवान विष्णु देवउठनी एकादशी के दिन विश्राम से जागकर सृष्टि का कार्य-भार संभालते हैं। इस दिन से सभी मंगल कार्य शुरू हो जाते है। जानते है कि देवउठनी एकादशी के दिन क्या करने से जातक को एक हजार अश्वमेघ यज्ञ का फल प्राप्त हो सकता है। देवउठनी एकादशी के दिन जरूर करें ये काम

तुलसी विवाह

देवउठनी एकादशी के दिन ही तुलसी विवाह भी आयोजित किया जाता है। यह शादी तुलसी के पौधे और भगवान विष्‍णु के रूप शालीग्राम के बीच होती है। यह विवाह भी सामान्‍य विवाह की ही तरह धूमधाम से होता है। मान्‍यता है कि भगवान विष्‍णु जब चार महीने की निद्रा के बाद जागते हैं तो सबसे पहले तुलसी की ही प्रार्थना सुनते हैं। तुलसी विवाह का अर्थ है तुलसी के माध्‍यम से भगवान विष्‍णु को योग निद्रा से जगाना।
लक्ष्मी पूजन
देवउठनी एकादशी के दिन स्नान करने के बाद भगवान विष्णु के साथ मां लक्ष्मी की भी विधिवत पूजा जरूर होता है। शंख में दूध डालकर करें अभिषेक

देव उठनी एकादशी के दिन दक्षिणवर्ती शंख में गाय का दूध डालकर भगवान विष्णु का अभिषेक करना चाहिए।
पीपल में दीपक जलाएं
कहा जाता है कि पीपल के वृक्ष में देवताओं का वास होता है। यही कारण है कि देवउठनी एकादशी के दिन पीपल के वृक्ष के पास सुबह गाय के घी का दीपक जलाना शुभ माना जाता है।

 साभार-khaskhabar.com

 


कोरोना विशेष

मथुरा। मुड़िया मेला, हरियाली तीज, रक्षाबंधन के बाद अब श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कोरोना का ग्रहण लग गया है। राधाष्टमी, बल्देव छठ जैसे ब्रज के आंचलिक आयोजन भी बिना भीडभाड के होंगे। मंदिरों पर भीड नहीं है।  

Read More

हमारी बात

मथुरा। देशभक्ति के कितने ही स्वरूप हो सकते हैं। कोरोना संकट ने ये साबित कर दिया कि देशभक्ति दिखने के लिए आप के आपके पास किसी भी जगह मौका है। एक नौजवान चिकित्सक ने कोरोना के मरीजों के इलाज में अपनी पूरी ताकत झौंक दी है।  

Read More

Bollywood

दर्शन