Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

कर्नाटक में बस में आग लगी, परिवार के 5 लोग जिंदा जले || संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले-स्वदेशी का मतलब विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार नहीं || वाराणसी : अतिरिक्त सीएमओ की कोरोना से मौत, परिजनों को दिया दूसरे का शव

बाल कैदियों ने लगाया खराब भोजन दिये जाने का आरोप

मथुरा। छोटी उम्र में जाने-अनजाने अपराध कर अपनी आजादी खो बैठने वाले किशोरों का दम राजकीय संप्रेषण गृह में भी घुट रहा है। यहां क्षमता से करीब चार गुना किशोरों को रखा गया है। संप्रेक्षण गृह में चिकित्सक की नियमित व्यवस्था नहीं है। क्षमता से करीब चार गुना बाल कैदी संप्रेक्षण गृह में रखे गये हैं।  नव निर्मित संप्रेक्षण गृह की क्षमता 30 बाल कैदियों को रखने की है।

30 के सापेक्ष 106 बाल कैदे रखे गये थे। इससे भी समस्या पैदा हो रही है। पकडे गये कैदियों ने अधिकारियों को भागने का जो कारण बताया है वह भी काफी चैंकाने वाला है। पकडे गये बाल कैदियों ने आरोप लगाया है कि उन्हें बेहद खराब गुणवत्ता का भोजन दिया जा रहा है। इसको लेकर वह शिकायत करते रहे हैं। भागने से एक दिन पहले भूख हडताल भी की थी लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।


 जिलाधिकारी आवास से कुछ दूरी पर बने राजकीय संप्रेक्षण गृह (किशोर) में मथुरा, अलीगढ़ और हाथरस के किशोर रखे गए हैं। ऐसे में इन्हें यहां रहने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


यह समस्या नये संप्रेक्षण गृह के निर्माण और इससे पहले से जारी है। पुराना संप्रेक्षण गृह बीएसए काॅलेज और भूतेश्वर चैराहे के बीच कंकाली टीले के पास एक प्राइवेट बिल्डंग में बना था। वहां भी क्षमता से अधिक बच्चों के रखे जाने की समस्या थी। इसी को ध्यान में रखते हुए  नये संप्रेक्षण गृह का निर्माण कराया गया था, जब संप्रेक्षण गृह तैयार किया जा रहा था उस समय भी पुराने संप्रेक्षण गृह में जितने बाल  कैदी थे उतनी भी क्षमता इस नये संप्रेक्षण गृह की नहीं रखी गई है।


बीते 25 नवंबर 2017 को तत्कालीन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव की अगुआई में एक दल ने इसका निरीक्षण कर अपनी रिपोर्ट में भी यहां क्षमता से अधिक बच्चों को रखने की बात कही थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि यहां तीन शौचालय और एक स्नानघर है। इसके साथ ही रहने के लिए भी सिर्फ छह कमरे हैं, जिनमें तख्त बिछे हुए हैं। यहां 12 से लेकर 18 साल तक के किशोर हैं। संप्रेक्षण घर में पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था भी नहीं है। संप्रेक्षण गृह के तत्कालीन अधीक्षक श्रीराम वर्मा कास कहना था कि क्षमता से अधिक बच्चों के बारे में माननीय न्यायालय और सक्षम अधिकारियों को कई बार अवगत कराया जा चुका है। बच्चों को बीमारियों के सवाल पर उनका कहना है कि उन्हें समय-समय पर दवा दी जा रही है। डाक्टर नियमित जांच को आते हैं, लेकिन पर्याप्त धूप न मिलने से कभी-कभार समस्या होती है।

106 बाल कैदियों के लिए सिर्फ एक बाथरूम, तीन शौचालय


बाल संरक्षण गृह में किस हालत में बच्चे रह रहे होंगे इस का अनुमान इससे भी लगाया जा सकता है कि  106 बाल कैदियों के लिए सिर्फ एक बाथरूम हैं। तीन शौचालय हैं। ऐसी स्थिति में शौचालय और बाथरूम में साफ सफाई की व्यवस्था रख पाना भी संभव नहीं है। गर्मी और उमस के मौसम में एक की जगह में चार बाल कैदियों के रहने पर दिक्कत बढ जाती है। इसके बावजूद सुरक्षा व्यवस्था भी लचार रही है।

संप्रेक्षण गृह की क्षमता 30 की है, 106 रखे गये हैं। सब 302, 373 जैसे गंभीर अपराधों में निरूद्ध हैं। कई दिन से बच्चे हंगामा मचा रहे थे। संसाधन 30 के हिसाब से ही हैं। तील शौचालय, एक बाथरूम है। सुरक्षा व्यवस्था में तीन होमगार्ड, दो कर्मचारी थे।  हरीशचंद, केयर टेकर बाल संप्रेक्षण गृह


कोरोना विशेष

मथुरा। मुड़िया मेला, हरियाली तीज, रक्षाबंधन के बाद अब श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कोरोना का ग्रहण लग गया है। राधाष्टमी, बल्देव छठ जैसे ब्रज के आंचलिक आयोजन भी बिना भीडभाड के होंगे। मंदिरों पर भीड नहीं है।  

Read More

हमारी बात

मथुरा। देशभक्ति के कितने ही स्वरूप हो सकते हैं। कोरोना संकट ने ये साबित कर दिया कि देशभक्ति दिखने के लिए आप के आपके पास किसी भी जगह मौका है। एक नौजवान चिकित्सक ने कोरोना के मरीजों के इलाज में अपनी पूरी ताकत झौंक दी है।  

Read More

Bollywood

दर्शन