Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

MATHURA : किसानों के बीच पैठ मजबूत करने में जुटी कांग्रेस || MATHURA : गंदगी से परेशान हैं वार्ड 43 के निवासी || MATHURA : बरसाना में शुरू हुआ 12 दिवसीय निःशुल्क चिकित्सा शिविर || मथुरा : आहट से कर्मचारियों में बढ़ी बेचैनी

A teen from Bristol, England lost his eyesight and his ability to hear because he only ate chips, white bread and processed food from a very young age. According to The Guardian, the 19-year-old boy apparently never liked the texture of fruit and vegetables from a very young age. Because of his diet, which was devoid of any nutrients, he suffered from nutritional optic neuropathy.    

Read More

बढ़ती उम्र काचेहरे पर साफ दिखाई देता है। उम्र बढऩे के साथ-साथ चेहरे की रंगत भी फीकी पडऩे लगती है। उम्र बढऩे से चेहरे की स्किन बेजान दिखती है। जैसे ही 40 की उम्र पार करती हैं तो आपके चेहरे पर झुर्रियां अलग ही दिखाई देने लगती हैं। 40 की उम्र के बाद अक्सर महिलाओं की खूबसूरती ढलने लगती है तथा उनका मन फिर से जवान दिखने को करता है। 

Read More

The foods you eat contain the fuel that your body needs to perform day to day activities, as well as any extracurricular hobbies you enjoy. So, you can either eat foods that give you energy or ones that suck the life right out of you.   

Read More

Strawberry is also called the queen of fruits for its sweet tart unique taste and its versatility. The strawberry fruit is not just limited to deliciousness but has many beauty benefits as well. Here are some beauty secrets of Strawberries.  

Read More

आजकल हम देखते है ज्यादातर लोगों में पेट की बिमारियों में सबसे ज्यादा पेट निकलना सम्सया आम हो गई है। हर तीसरा व्यक्ति मोटापे का शिकार है। बदलती लाइफ स्टाइल के चलते मोटापा तेजी से बढता जा रहा है। 

Read More

कब्ज एक ऎसी बिमारी है, जिसके बारे में सबके सामने खुल कर बात नहीं कर सकते हैं। कॉन्स्टिपेशन के समय होने वाली परेशानियां सिर्फ वही समझ सकता है जो इस दौर से गुजर चूका है। हालांकि यह दिक्कत अधिकत्तर लोगों को आती है पर जल्द ही ठीक भी हो जाती है। पर कुछ लोग ऎसे भी है जिन्हें इस समस्या का सामना लंबे समय तक करना पडता है। आज हम कब्ज से परेशान लोगों के लिए लेकर आएं है कुछ घरेलू उपाय जो उनका पेट साफ रखने में काफी मदद करेगा। जैतून का तेल  आपने अक्सर देखा होगा कि जब कोई मशाीन जाम हो जाती है तो उस पर तेल लगाना पडता है। उसी तरह अपने शरीर को भी तेल की जरूरत होती है। हर रोज सुबह उठ कर दो चम्मच जैतून का तेल पी लो, उससे आपका पेट साफ हो जाएगा। वर्कआउट  सुबह उठ कर थोडा वर्कआउट करने की आदत डालें, इससे आपके शरीर की पाचन शक्ति मजबूत होगी। बॉडी स्ट्रेच करने जैसी कसरत से आपका पेट साफ होने की संभावना बढ जाती है। दही  दही में बहुत तरह के लाभदायक बैक्टेरिया होते हैं। अपने खाने के साथ दही का सेवन हर रोज करें     साभार-khaskhabar.com

Read More

आम तौर पर मोटापे को बीमारियों की जड़ माना जाता है। खास तौर से महिलाओं के लिए यह ज्यादा घातक होता है। लेकिन आज हम जिस रिसर्च के बारे में बता रहे हैं वह पहली महिलाओं के लिए भी खतरे की घंटी है। दरअसल एक नए शोध में सामने आया है कि पतले कूल्हे (स्लिम हिप्स) वाली महिलाओं को भी शुगर और दिल संबंधी रोग हो सकते हैं।    स्टडी में बताया गया कि हिप्स का भारी होना बैली (पेट), लिवर (यकृत) या पेनक्रियाज (अग्नाशय) के चारों ओर जमा होने वाले फैट से ज्यादा सुरक्षित है। रिसर्च के अनुसार आनुवंशिकता के कारण कुछ महिलाओं के हिप्स पर कम फैट होता है। इससे उन्हें दिल की बीमारियां और टाइप-2 डायबिटीज होने की आशंका रहती है।   फैट जमा होना शरीर में खून के दौरे पर भी निर्भर करता है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के लीड रिसर्चर लुका लोटा ने कहा कि इसका मतलब है कि लिवर, मसल्स या पेनक्रियाज में ज्यादा फैट होने से इन बीमारियों का खतरा रहता है। इससे यह भी समझा जा सकता है कि हिप्स के चारों ओर कम फैट होना सही नहीं होता। इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं ने 6 लाख से ज्यादा महिलाओं के जेनेटिक प्रोफाइल का अध्ययन किया। उन्होंने जेनेटिक वेरिएंट्स के दो स्पेसिफिक ग्रुप छांटे। एक में वे महिलाएं थीं, जिनके हिप्स के चारों ओर कम फैट था, जबकि दूसरे में कमर और पेट के चारों ओर ज्यादा फैट वालीं महिलाएं थीं। जामा मेडिकल जर्नल में छपी रिपोर्ट से पता चला कि दोनों ग्रुप ही महिलाओं को ही टाइप-2 डायबिटीज और हार्ट अटैक का रिस्क रहता है।     साभार-khaskhabar.com

Read More

वजन को कम करने के लिए लोग एक्सरसाइज और जिम में पसीना बहाने को ही बेहतर विकल्प मानते हैं लेकिन कुछ लोगों के पास इतना समय नहीं कि वह जिम जा सकें या कुछ लोग हैल्थ प्रॉब्लम्स के चलते जिम में लंबा समय तक एक्सरसाइज नहीं कर पाते। ऐसे लोगों के लिए हम गजब के टिप्स लाए हैं। बस आपको अपनी डाइट सही करनी हैं, चलिए आज हम बताते हैं कि जिम ना जाने वाले लोग कैसे वजन को तेजी से कम कर सकते हैं।    भरपूर पानी- सबसे पहले तो अपनी दिनचर्या में पानी को महत्व दें। खूब सारा पानी पीएं। आप सादे पानी के साथ गुनगुने पानी में शहद, नींबू पानी, पुदीना पानी का सेवन भी करें क्योंकि यह विषैले तत्वों को जल्दी बाहर निकालने में मददगार है जिससे वजन भी तेजी से कम होता है। कम से कम 10 से 15 गिलास पानी जरूर पीएं।हरी सब्जियां खाएं- हरी सब्जियों का सेवन करें इसमें विटामिन और मिनरल जैसे तत्व भरपूर होते हैं। शरीर के लिए यह बहुत फायदे होते हैं क्योंकि पानी से भरपूर यह सब्जियां तेजी से वजन घटाती हैं। खीरे व पत्तागोभी का सेवन करें।सुबह-सुबह खाएं कच्चा लहसुन - रोजाना लहसुन की दो-तीन कलियां चबाना आपके लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे वजन तेजी से कम तो होता ही है साथ ही रक्त प्रवाह सही होता है और एसिडिटी की परेशानी भी नहीं होती।     साभार-khaskhabar.com  

Read More

ठंड के सीजन में गुड का अपना ही महत्व है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी होता है। शरीर को साफ और हैल्दी रख में गुड बहुत ही लाभकारी होता है। गुड में मैग्नीशियम आयरन विटामिन्स आदि की अच्छी मात्रा होती है। जो शरीर के लिए लाभदायक होती है। तो आइये जानते हैं गुड इन गुणों को- गुड मिनरल्स, विटामिन्स और एनर्जी का उत्तम स्त्रोत है। एक टीस्पून गुड में एमजी कैल्शियम, 3 एमजी मैग्नीशियम, 8 पोटैशियम व आयरन पाया जाता है। गुड का रंग जितना अधिक गहरा होता है, उसमें आयरन की मात्रा उतनी अधिक होती है।  गुड खनू में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढाने में मदद करता है इसलिए एनिमिन खून की कमी लोगों को गुड खाने की सलाह दी जाती है। यह कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट है। शक्कर की तुलना में यह धमी गति से रक्त में मिलता है। इसलिए लंबी अवधि तक ऊर्जा प्रदान करता है। गुड खाना पचाने में मदद करता है। यह डायजेस्टिव एंजाइम्स को सक्रिया करता है। और पेट के अंदर पहुंचते ही एसिटिक एसिड में बदलकर पाचन की प्रक्रिया को तेज कर देता है। गुड और देसी घी मिलाकर खाने से शरीर तगडा होता है। इससे रक्तविकार और रक्तपित्त नहीं होता। जिन व्यक्तियों को एसिडिटी की परेशानी है उनको रोज थोडा-सा गुड चूसना चाहिए।  सर्दी के दिनों में गुड, तुलसी और अदरक का काढा बनाकर गर्मागर्म पीना अच्छा रहता है। यह सर्दी-जुकाम से बचाव करता है।   साभार-khaskhabar.com

Read More

सर्दी के मौमस में सभी खुद को बीमारियों से बचने और खुद को फीट रखने के लिए कुछ ना कुछ करते रहते हैं। कुछ लोग अपने खानपान को बदलाव करते है तो कुछ दिनचर्या में। आज महिलाओं को लेकर सर्दी के लिए नया लेख लेकर आए है। सर्दियों में महिलाओं को हर बीमारी से बचने के लिए सौंठ का प्रयोग करना चाहिए। सौंठ अपने रसोई में आसानी से मिल जाती है और ये एक औषधी के रूप में प्रयोग करने वाला मसाला है। खासतौर पर यह प्रसव साली महिलाओं को खिलाया जाता है जो सर्दियों में बच्चे को जन्म देती हैं। इसमें प्रोटीन, स्टार्च, ग्लूकोज कैल्शियम, विटामिन वी और आयरन जैसे गुणों से भरपूर होता है और इसकी तासीर बहुत ज्यादा गर्म होती है जिसका सेवन सर्दी में किया जाता है।   1. दांत दर्द दांत में दर्द होने पर आप सौंठ का प्रयोग कर सकते हैं। दर्द होने पर आधा चम्मच सौंठ पाउडर में एक चुटकी हल्दी मिलाकर जहां दर्द है वहां पर लगाएं। कुछ देर बाद दर्द में आराम मिल जाएगा। 2. कब्ज आने पर यदि किसी को कब्ज हो तो इसे चाय के साथ पीएं एक या दो दिन इसके बाद फायदा जरूर मिलता है। ऐसा करने से सिर्फ दो दिनों में आपकी लंबी कब्ज की परेशानी दूर हो जाएगी। 3. कोल्ड कफ सर्दी के मौसम में ज्यादातर लोगों को कोल्ड-कफ जकड़ लेता है और पूरी सर्दी वो लोग छींकते और खांसते बिता देते हैं। ऐसे में आपको हर दूसरे दिन सौंठ का लड्डू खाना चाहिए। या फिर आधा चम्मच सौंठ पाउडर और मुलेठी पाउडर मिलाकर पानी में उबालकर पीलें। 4. कैंसर अगर किसी को शुरुआती कैंसर के प्रभाव है तो उन्हें सौंठ का सेवन करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि सौंठ में कैंसररोधी गुण मौजूद होते हैं जो शरीर में कैंसर कोशिकाओं को बढऩे से रोकते हैं और इस लड़ाई को आसानी से जीत सकते हैं। 5. बॉडी पेन होने पर कभी-कभी काम की वजह से लोगों को शरीर में ऐसा भयंकर दर्द होता है जो पेन किलर के बाद भी आसानी से नहीं जाता। इसके लिए शरीर के दर्द वाले हिस्से में सौठ को पानी में मिलाकर उसका लेप लगाने से आराम मिलता है।     साभार-khaskhabar.com

Read More

जहां ठंडक एक सुखद एहसास देती है, वहीं छोटी-मोटी मगर परेशान करने वाली परेशानियां का सामना करना पडता है। सर्दी की हवाओं का असर ही कुछ ऐसा होता है कि खांसी, जुकाम जैसेछोटी-छोटी आम बीमारियों से बच्चे तो बच्चे बडे भी नहीं बच पाते। कुछ घरेलू सुरक्षात्मक उपाय जिनसे ठंड की समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। चाय में तुलसी के पत्ते, अदरक और कालीमिर्च डालकर पकाएं। इसे पीने से सर्दी खांसी से राहत मिलती है। कभी जुकाम, हरारत, गले की खराश होने की स्थिति में तुलसी की पत्ती 10-15, 5-7 दाने काली मिर्च, अदरक 10 ग्राम तथा मुलहठी 5 ग्राम कूटकर 250 ग्राम पानी में उबालें जब पानी आधा रह जाये तो छानकर 1 चम्मच चीनी डालकर गर्मा गरम चाय की तरह पी लें। दोनों समय सुबह-शाम लेने से 2-3 दिनों में रोगों से मुक्ति मिल जायेगी।जो लोग धूप का सेवन नहीं करते उन्हें सफेद दाग होने की आशंका होती है। धूप सेवन का समय सुबह और शाम का ही ज्यादा अच्छा रहता है। सर्दी, जुकाम, खांसी जैसे रोगों को दूर करने के लिए धूप में रखकर पानी पीएं। धूप में रखकर ही फल खाएं तो बीमारी से तुरंत छुटकारा पा सकते हैं।ठंड होने के कारण प्यास कम लगती है, लेनिक शरीर को हाइड्रेट रखना जरूरी है। अत: भरपूर पानी पीएं। इस मौसम में उबला या प्यूरीफाई किया हुआ पानी ही पीएं। वरना आप बीमारियों से घिर सकते हैं। गरम दूध में हल्दी पाउडर, सोंठ पाउडर और शहद मिलाकर पीने से सर्दी, खांसी और बदन दर्द से आराम मिलता है।   साभार-khaskhabar.com

Read More

नई दिल्ली। आजकल के ज्यादातर लोगों में सबसे गंभीर बीमारी हार्ट अटैक सामने आ रही है। अगर देखा जाए तो इस बीमारी की कोई उम्र सीमा नहीं हैं। यह बीमारी हमारे जीवनशैली यानी हमारे लाइफस्टाइल की वजह से होती हैं। तनाव इस बिमारी की मुख्य वजह हैं।  इस बीमारी का शिकार लोगों का ईलाज में लाखों रुपए लग जाते है। वहीं इस बीमारी का ईलाज आप 60 सेकंड में घर में भी कर सकते है वो भी मिर्च से।जी हां, मिर्च ऐसी चीज है अगर खाने में ना हो खाना ही बेस्वाद लगता है। और अगर यह खाने में ज्यादा हो जाए तो भी खाने वाले का बुरा हाल। अब बताते है कि लाल मिर्ची के इस्तेमाल से हार्ट अटैक पर केवल 60 सेकंड में काबू पाया जा सकता हैं।दरअसल एक मशहूर डॉक्टर जॉन क्रिस्टोफर का कहना हैं की, मैंने आज तक जितने भी हार्ट अटैक मरीजो के घर गया हूं उनमे से कोई भी मरा नहीं हैं। मैं उन्हें लाल मिर्च की चाय पिलाता हूं (एक कप गर्म पानी में एक चम्मच लाल मिर्च) और वह मिंटो में अपने पैरो पर खडे हो जाते हैं।   साभार-khaskhabar.com

Read More

संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

पुलिस लाइन के सामने क्या करने आया था लूट हत्या मुठभेड में वांछित 25 हजार का इनमी?

Read More

Bollywood

दर्शन