Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

MATHURA : कांग्रेस गांवों में तलाश रही वजूद || MATHURA : बरसाना की लठामार होली में न हो कोई हादसा, प्रशासन बरत रहा सतर्कता || नगर पालिका एवं नगर पंचायतें कार्यों को मार्च तक पूर्ण कराये || MATHURA : महर्षि गौतम जयंती महोत्सव की तैयारियों को लेकर बैठक संपन्न || MATHURA : लोगों को कैंसर के प्रति किया जागरूक

राज्यपाल ने एरियल सर्वे से जाने प्रभावित क्षेत्रों के हालात, 50 लाख रूपये की सहायता राशि दी

जयपुर ,कोटा । राज्यपाल कलराज मिश्र ने शनिवार को जल भराव से प्रभावित कोटा संभाग के क्षेत्रों का एरियल सर्वेक्षण कर बचाव एवं राहत कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने प्रभावित क्षेत्रों के लिए राज्यपाल सहायता कोष से 50 लाख रूपये की सहायता राशि की घोषणा की।
राज्यपाल ने जयपुर से रवाना होकर एरियल सर्वेक्षण के द्वारा चम्बल एवं सहायक नदियों में जल भराव के कारण प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों एवं कोटा नगर निगम क्षेत्र का अवलोकन कर स्थानीय प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे राहत एवं बचाव कार्य की विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने बूंदी जिले के केशारायपाटन क्षेत्र में चम्बल नदी के किनारे के गांवों का सर्वेक्षण कर बारां जिले में परवन, कालीसिंध, सूखनी नदी के जलप्रवाह क्षेत्र में बसे हुए गांवों को देखा। उन्होंने झालावाड जिले में कालीसिंध एवं परवन नदी के प्रवाह क्षेत्र के गांवों में बाढ से हुए नुकसान एवं प्रशासन द्वारा किये जा रहे राहत कार्यों का भी जायजा लिया। राज्यपाल ने कोटा जिले में इटावा उपखण्ड क्षेत्र के गांवों तथा चम्बल किनारे दीगोद से कोटा नगर निगम क्षेत्र में जल भराव से प्रभावित बस्तियों का नजदीकी से एरियल सर्वेक्षण कर नुकसान का जायजा लिया।

अधिकारियों की ली बैठक

राज्यपाल के कोटा हवाई हड्डे पर पहुंचने पर संभागीय आयुक्त एल.एन. सोनी, जिला कलक्टर मुक्तानन्द अग्रवाल, पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने अगवानी की। एयरपोर्ट के लाउंज में उन्होंने अधिकारियों की बैठक लेकर जल भराव से प्रभावित क्षेत्रों में हुए नुकसान एवं स्थानीय प्रशासन द्वारा चलाये गये बचाव एवं राहत कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि प्रभावित क्षेत्रों में आम नागरिकों को नुकसान के अनुसार समय पर सहायता राशि पहुंचाई जाये। लोगों के पुनर्वास एवं सामान्य जनजीवन के लिए आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता शीघ्रता से की जावे।
मिश्र ने कहा कि सभी अधिकारी टीम भावना से कार्य कर रहे हैं, इसमें बजट की कोई कमी आने नहीं दी जायेगी। सरकारी स्तर के साथ-साथ स्थानीय स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक संगठनों को भी प्रभावित लोगों की मदद करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने शुद्ध पेयजल एवं मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए पूर्व प्रबंध यथा दवाओं की उपलब्धता, जलजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए फोगिंग, ब्लीचिंग जैसे उपाय करने के निर्देश दिये।


50 लाख की सहायता दी


राज्यपाल ने हवाई अड्डे पर मीडिया से रूबरू होते हुए जल भराव से प्रभावित क्षेत्रों में राज्यपाल सहायता कोष से 50 लाख रूपये दिये जाने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि कोटा जिले के लिए 15 लाख, बूंदी के लिए 10 लाख, झालावाड के लिए 10 लाख, बारां जिले के लिए 5 लाख तथा धौलपुर जिले के लिए 10 लाख रूपये की सहायता राशि राज्यपाल सहायता कोष से दी गई है। उन्होंने बताया कि एनडीआरएफ/एसडीआरएफ नियमों के तहत प्रत्येक प्रभावित परिवार को सरकार द्वारा सहायता राशि उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा राज्यपाल सहायता कोष से जारी राशि आम नागरिकों को जनजीवन सामान्य करने में सहायक होगी।
राज्यपाल ने बताया कि संभाग में 385 गांव/बस्तियां प्रभावित हुई हैं। जिलों में राहत कार्यों के दौरान 103 आश्रय स्थलों में 88 हजार से अधिक भोजन पैकिट व अन्य राहत सामग्री का वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा कराये गये सर्वे के आधार पर अब तक 39 करोड़ रूपये से अधिक की सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान हुआ है, जिसके लिए सरकार द्वारा विभागों को बजट दिया जायेगा।

आपदा राहत सचिव आशुतोष एटी पेडनेकर, संभागीय आयुक्त एल.ए.सोनी एवं जिला कलक्टर मुक्तानन्द अग्रवाल ने जिले में 13 सितम्बर से लगातार आपदा राहत एवं पुनर्वास के लिए किये जा रहे कार्यो की जानकारी देते हुए जिला प्रशासन द्वारा जल प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य तथा पुनर्वास के लिए अब तक किये गये कार्यों के छायाचित्रों का एलबम राज्यपाल को भेंट किया। संभागीय आयुक्त ने बताया कि संभाग में सेना की 4, एनडीआरएफ की 4, एसडीआरएफ की 13 एवं नागरिक सुरक्षा की 8 टीमें लगाई जाकर बचाव कार्य किया गया। उन्होंने बताया कि क्षतिग्रस्त मकानों का सर्वे कराया जा रहा है तथा शीघ्र ही इनका मुआवजा भी दिया जायेगा। बिजली व पानी आपूर्ति की सुचारू करने के युद्धस्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। राज्यपाल ने प्रशासन द्वारा टीम भावना से किये गये कार्यों की सराहना करते हुए पुनर्वास कार्य को भी समयबद्ध कराने के निर्देश दिये।


साभार-khaskhabar.com


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

टोंक। कोतवाली टोंक पुलिस ने शनिवार की शाम को चार जुआरियों को गिरफ्तार किया है, जिनसे 13260 रुपए व जुआ की सामग्री व ताशपत्ते जब्त की है। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार जुआरियों में बहीर जामा मस्जिद के पास टोंक निवासी अनीस पुत्र लाडला, मेहन्दी बाग टोंक निवासी रामदेव पुत्र कल्याणमल माली, धन्ना तलाई कच्ची बस्ती निवासी फिरोज पुत्र फज्जु तथा बनवारी लाल बैरवा के मकान के पास काली पलटन निवासी अल्लादीन पुत्र अजीज को पकड़ा है।  साभार-khaskhabar.com  

Read More

Bollywood

दर्शन