BREAKING NEWS

मथुरा : सरकारी विद्यालयों की जमीन पर बने सार्वजनिक शौचालय होंगे ध्वस्त || मथुरा : जनपद के प्रत्येक होटल, लाॅज, गेस्ट हाउस, पेइंगगेस्ट हाउस की होगी यूनीकोड आइडी || मथुरा : डीआरएम ने किया मथुरा जंक्शन का निरीक्षण || मथुरा : थाना दिवसः छह महीने बाद फिर सुनी गईं थाना दिवस में फरियाद

भारतीय खेल एवं शिक्षा परिषद ने मनाया स्थापना दिवस, स्वदेशी खेलो को मिले बढ़ावा

मथुरा। भारतीय खेल एवं शिक्षा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद कुमार चित्तोरिया ने सभी सदस्यों से ऑनलाइन एप के माध्यम से बात कर आज स्थापना दिवस के मौके पर संगठन के चार वर्ष पूरे होने पर सभी 26 राज्यो के प्रतिनिधियो को खेल एवं शिक्षा क्षेत्र में और अधिक कार्य करने की शपथ दिलाई।

और साथ ही बताया की अब हमें सभी ओलिम्पिक  ध् नॉन ओलिम्पिक खेलो के साथ अपने स्वदेशी व पारंपरिक खेलो जैसे - सितोलिया, पतंगबाजी, गिल्ली डंडा, शूटिंगबॉल, आत्या पाट्या, लंगड़ी, मलखंब, बोकीड़ो, आदि खेलो के साथ ही शिक्षा क्षेत्र में संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार पर जोर दिया जाएगा ,जिस से हर वर्ग के युवा इससे जुड़े और अपने देश की संस्कृति के साथ रहे। चित्तोरिया ने साथ ही ये कहा कि हम केंद्र सरकार से आग्रह करते है  की स्वदेसी खेल डेवलपमेंट बोर्ड बनाया जाए ।ताकि इन खेल के खिलाड़ियों को पहचान मिले। हालाँकि इनमें से कई खेल भारत सरकार से मान्यता मिली है। इन खेलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से गत जून 2019 बिहार के भागलपुर जनपद में भारतीय खेल एवं शिक्षा परिषद द्वारा प्रतियोगिता कराई गई थी। जिसे लोगो ने काफी सराहा था। इस मीटिंग में ,बलराज सिंह, एडवोकेट धर्मेंद्र सिंह, दीपक जैन, सुमित सिंह, शिवम सिंह, शशिकांत, अनिल यादव, प्रकाश प्रजापति, नरेंद्र, राजशेखरन, कलावटीएयनर, कोडंबम, रेवंत पवन, दीपक पंचाल, अरुण बिष्ट, आर पी गोयल , उषा सिंह , पदमजा देसाई, काजल मंगलामुखी आदि संस्था के पदाधिकारि उपस्थित रहे।


कोरोना विशेष

मथुरा। राष्ट्रीय सचल चिकित्सा टीम ने धर्म लोक, मानस नगर, आनंद नगर, बीएसएनएल प्रधान कार्यालय डैम्पीयर नगर में कोरोना के एंटीजन टैस्ट किये। इस दौरान 52 लोगों के सैंपल लिये गये जिनमें से एक की रिपोर्ट एंटीजन पाॅजिटिव मिली है।

Read More

हमारी बात

हमायी बात --------> एक राजा ने दूसरे राजा को हारकर विजय हासिल की. उसने वहां की प्रजा से वादा किया की में इस राज्य में तालाब, बावड़ी, बच्चों को विद्या कुंवारी कन्याओं के लिए विवाह और लोगों को काम दूंगा आदि. कुछ समय बीता प्रजा ने स्थानीय मंत्रियों तक बात पहुंचना शुरू किया।   

Read More

Bollywood

दर्शन