Editor's Picks

Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image
Owl Image

BREAKING NEWS

MATHURA : किसानों के बीच पैठ मजबूत करने में जुटी कांग्रेस || MATHURA : गंदगी से परेशान हैं वार्ड 43 के निवासी || MATHURA : बरसाना में शुरू हुआ 12 दिवसीय निःशुल्क चिकित्सा शिविर || मथुरा : आहट से कर्मचारियों में बढ़ी बेचैनी

अगर सीएम से गृह विभाग नहीं संभलता, तो किसी सहयोगी को जिम्मेदारी दे - कटारिया

जयपुर । राजस्थान की लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर नेता प्रतिपक्ष और पूर्व गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा है। प्रदेश भाजपा मुख्यालय पर एक प्रेस वार्ता में कटारिया ने कहा कि गृह विभाग के मुखिया खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत है, लेकिन ऐसा लगता है कि वह कानून व्यवस्था के मुद्दे को गंभीरता से नहीं लेते है, या उनके पास वक्त नहीं होता है।

उन्होंने आग्रह किया कि मुख्यमंत्री को अपने लिए एक सहयोगी मंत्री साथ रखना चाहिये, जिससे कि कानून व्यवस्था को लेकर मॉनिटरिंग हो सके। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पिछले सात महीने के दौरान राजस्थान में कानून व्यवस्था की दुर्गति जो हुई है, पहले ऐसी दुर्गति कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि पूरे राजस्थान में अपराधिक घटनाओं में पिछले सात महीने के 85 फीसदी इजाफा हुआ है।
उन्होंने कहा कि पुलिस वहीं है, पुलिस के लोग भी वही है, लेकिन बस हमारी सरकार नहीं है। उन्होंने कहा कि पुलिस का हर थाना रिश्वतखोरी के मामले में ट्रैप हो रहा है। साथ ही बहरोड की घटना ने तो राजस्थान को शर्मसार कर दिया है। थानाधिकारी का यह कहना है कि एक फायर के बाद पिस्टल जाम हो गई थी, पूरी राजस्थान पुलिस को नीचा दिखाता है।

कटारिया ने कहा कि राजस्थान पुलिस के मुखिया को निकम्मे और लापरवाह पुलिसवालों पर सख्ती करनी चाहिए, साथ ही उन्होंने सुझाव दिया है कि छह महीने के लिए एक प्रयोग के तौर पर सभी जिलों के एसपी को कानून व्यवस्था सुधारने के लिए छूट दी जाए, जिसमें कोई राजनीतिक दखलदांजी नहीं हो। अभी राजनीतिक दखलदांजी के चलते लगातार अपराध बढ़ रहे है।
साभार-khaskhabar.com


संपादकीय

विशाल अग्रवाल ने बताया कि चालान सिर्फ ट्रफिक पुलिस काटे सभी पुलिस कर्मियों को इसकी जिम्मेदारी न दी जाये तो 50 प्रतिशत तक सही तरीके से काम हो पायेगा। जबकि आकाशवाणी के पूर्व उद्घोषक श्रीकृष्ण शरद, राकेश रावत एडवोकेट, पी0 के0 वार्ष्णेय, अरविन्द चौधरी, जगन्नाथ पौद्दार, पवन शर्मा, महेन्द्र राजपूत, जितेन्द्र गर्ग, सपन साहा, प्रताप विश्वास इन सभी ने माना कि इसमें पुलिस का फायदा अधिक होगा।  

Read More

तीसरी आंख

पुलिस लाइन के सामने क्या करने आया था लूट हत्या मुठभेड में वांछित 25 हजार का इनमी?

Read More

Bollywood

दर्शन